Thursday, March 23, 2017

Mohyal Ratna award to late Sunil Dutt

Sanjay Dutt receiving Mohyal Ratna award on behalf his father late Sunil Dutt. Mehta OP Mohan, Rzd BD Bali and Ashok Lav presenting momento to Sanjay Dutt
General Mohyal Sabha honored Cine Star, Politician and Social Activist late Shri Sunil Dutt with the highest award 'MOHYAL RATNA' on 12th March 2017 at Talkatora Stadium,New Delhi. Sanjay Dutt son of Shri Sunil Dutt recevied this award.  
Sanjay Dutt receiving Mohyal Ratna award on behalf his father late Sunil Dutt. Mehta OP Mohan, Rzd BD Bali and Ashok Lav presenting momento to Sanjay Dutt
Sanjay Dutt receiving Mohyal Ratna award on behalf his father late Sunil Dutt. Mehta OP Mohan, Rzd BD Bali and Ashok Lav presenting momento to Sanjay Dutt

Writer and Social Activist Ashok Lav honoured with Life Time Achievement Award




Saturday, March 4, 2017

General Mohyal Sabha :Dedicated to the Community

    Four Decade of Excellence and Dedicated Service to the Community

GENERAL MOHYAL SABHA (GMS),the apex body of Mohyals was established by our visionary forefathers on 24 May 1891 at Lahore and over the last 125 years has been rendering yeoman service to the community. Mohyals though miniscule in numbers — estimated to be six to seven lacs - have always been in the forefront in the cause of Dharma and defence of motherland. Descendents of legendary Sapta Rishis, Mohyals have, over the ages, repeatedly demonstrated valour and virtuosity — fighting against religious bigotry and social injustice. The Martyrdom of Bhai Mati Dass and Bhai Sati Dass is unparalleled in the world's history. In the pre-partition years, the main strongholds of Mohyals were in Punjab and NWFP. Basically agriculturists, they were recognised as warriors and a martial race and excelled in Police and Defence Services. After the traumatic partition of the country in 1947, the Mohyals got scattered and settled in various parts of the country. They were virtually cut off from their moorings, but the inherent Mohyali spirit survived .The Community has excelled itself in Defence, Police andAdministrative services besides making a mark in Industry, filmdom and various other spheres.
        After partition GMS first shifted to Amritsar in 1947 and then to Delhi in 1955. The first three decades were almost spent in hibernation due to lack of resources. During the last four decades, GMS has made big strides in various fields. Today, the Community has risen and its members have come closer to each other, as never before, and the Mohyali flag is aflutter in all parts of the country. This development clearly establishes the fact that Mohyals have arrived in strength, are an integrated community and their identity is intact and vibrant. Besides building of Ashrams, Bhawans and Institutions and creating financial resources, the credibility of the GMS has never been as high as today. GMS is rightly proud of its achievements over the last four decades.

Cash in hand        The liquid assests of the GMS have increased from Rs 22,391/ as on 01 Oct 78 to Rs. 2,79,46,359/- as on   31 Dec 2016.

Trusts         There were a total of 31 trusts as on 1 Oct 1978 for a total value of Rs.2,26,634/ -. Currently, there are 2928 individual  trusts and their value is Rs.7,61,96,097/- as on 31 Dec 2016. There are two types of trusts, ones opened by the GMS and the others opened by individuals.  The first category includes trusts like (i) GMS Educational Benevolent Fund Trust Account, established in 2009 with seed money of Rs. 1,00,00,000/- (ii) GMS Mohyal Mitter Trust Account (Rs. 7,00,000/) and GMS Widow Fund Trust (Rs.3,00,000/), a total of Rs. 1,10,00,000/. The latter two trusts have been opened to augment the respective two funds. The individual trusts are also of two types (i) Langar Fund Trusts for Haridwar and Vrindavan Ashrams  (ii) other individual trusts. As on 31 Dec 2016, there were a total of 2402 Langar Fund Trusts; 1910 for Haridwar and 492 for Vrindavan. Each such trust is for Rs.11,000/-, so the total value of Langar Fund Trusts works out to Rs. 2,64,22,000/- The balance trust money of Rs. 4,97,74,097/- is for 526 individual trusts .

Real Estate           Before Partition of the country, GMS owned a Student's Hostel (Mohyal Ashram Lahore), built on an area of three Kanals. After partition, efforts were made by the Sabha to get compensation/claim for this property left in Pakistan. However, the policy of the Govt. of India, at that time, was not to entertain any institutional claims.  G.M.S. has established the following properties, dedicated to the service of the Community:

·        Mohyal Bhavan at Inderpuri, having 16 fully furnished rooms with attached baths and a Hall.
·        Mohyal Foundation Building Phase I having GMS Secretariat, with modern facilities. A portion of this building is given on rent to augment our resources for welfare activities.
·        Mohyal Foundation Building Phase II from where the prestigious Mohyal Educational Research Institute of Technology (M.E.R.I.T.) is functioning.
·         Mohyal Ashram at Haridwar, having 8 suites, 32 rooms, dormitory and other ancillary accommodation including lifts.
·         Sewa Sadan at Haridwar,two floors of which are being used for Mohyal Public School which is being upgraded to class 5
·        Mohyal Ashram at Vrindavan, having 7 suites,31 rooms and 2 dormitories, and other ancillary facilities including a lift.
·        Mohyal Ashram at Goverdhan, having 8 rooms, a kitchen, and other ancillary facilities.
·        Two adjacent buildings over an area of 1000 sq. yds, in Dehradun, from where a Primary school upto Class 8, is being run under the aegis of the GMS.
·         A bungalow in Defence Colony, Meerut.
·        GMS owns a plot of land at Agra .
·        Foundation stone for renovated Mohyal Bhawan at Yamuna Nagar was laid on          11 Sep 2016. The project will be completed in two years and should benefit all the Mohyal families located in Yamuna Nagar and the surrounding areas .The building will also have facilities to open a branch of MERIT 
·        GMS has given financial assistance to Local Sabhas at Ambala City,Chandigarh, Faridabad, Hoshiarpur, Hyderabad/Secunderabad, Jammu, Karnal, Mehrauli, Saharanpur, Yamuna Nagar and Yamunapaar (Delhi) for the construction of their bhavans by the respective local Sabhas.Financial assistance was also granted for the construction of the holy Samadhi of Baba Thakkar at Gurdaspur.

Permanent Members      The number of permanent members (Patrons, Prathishtith members and life members) of the GMS has increased from 43 on 01 Oct 1978 to 2745,who are being issued laminated Photo Identity Cards. All Permanent members, Room Donors and Langar Fund Donors are also entitled to get such cards. The practice of sending Greeting Cards on the occasion of Birthdays and Marriage Anniversaries of Permanent Members of the GMS, Langar Fund Donors and Room Donors, which was started in 2005, has also become very popular.

Mohyal Mitter       The number of subscribers to our monthly magazine Mohyal Mitter has increased from 688 as on 01 Oct 1978 to 3500 as on 30 Dec 2016. The Mohyal Mitter, the first issue of which was brought out in September 1891, has been recognized as the "oldest continuously published magazine in India" by the Limca Book of Records.

Local Sabhas The number of affiliated local sabhas that was 17 on 01 Oct 1978 has increased to 70 .

Conferences         Since 1902, the GMS has been holding All India Mohyal Conferences. 52nd All India Mohyal Conference is being held at Talkatora Indoor Stadium, New Delhi on 12March 2017. The conferences are multifunctional, combining many activities. Awards like Mohyal Ratna, Mohyal Gaurav, Mohyal Sewa Puraskar, Mohyal Yuva Sewa Puraskar, Excellence in Professional Achievement etc are given on such occasions.


PratibhashaleeMohyal Vidyarthee Samman: Since 2004, a yearly Pratibhashalee Vidyarthi Samman function is being held to honour and encourage brilliant students of the community .13th Pratibhashalee Mohyal Vidyarthee Samman was held at Mohyal Foundation on 4 Dec 2016 .

Matrimonial Melas: Starting from 2006, yearly Mohyal Matrimonial Mela is being held to help the parents of eligible Mohyal girls and boys to select suitable matches for their respective wards. In addition, a quarterly Shaadi Darbar is also being held at  Mohyal Foundation on the last Sunday of each quarter.7th Grand Matrimonial Mela was held at Mohyal Foundation on 20 March 2016.

Mohyal Diwas: A yearly Foundation Day of the GMS is being celebrated as Mohyal Diwas to enable members of the community to get together and participate in activities for the upliftment of the community. 125th Sthapna Divas is being held at Talkatora Indoor Stadium, New Delhi on 12th March 2017.

Youth Camps: Periodic Mohyal Youth Festivals/ Camps are being held to empower the youth and encourage them to take part in the activities and development of the community.

Presidents/Secretaries Meet: A yearly Presidents/Secretaries meet of the local affiliated Sabhas is being held, to review policy decisions and progress made and to ensure close cohesion between GMS and local Sabhas for the welfare of the Community.The last Presidents and Secretaries meeting was held on 14 and 15 May 2016.

Annual General Body Meeting     Annual General Body meeting is held, for which all permanent members and annual members who are members for three consecutive years are invited to attend .The last AGM was held at Mohyal Foundation New Delhi on 16 Oct 2016 .

GMS Managing Committee Elections    GMS Managing Committee Elections are held as per the GMS Constitution.The last elections were held on 13 September 2015.

National Calamities     GMS has always played a pivotal role in the National main stream .A sum of Rs five lacswas donated to the Prime Ministers National Relief Fund on 17 Sep 2014 to help our distressed brothers and sisters of J&K, effected by the unprecedented floods in the State. Relief material was sent to help flood victims of Pithoragarh                             (Uttarakhand) under our youth team on 12 July 2016.

Financial Assistance: Monthly financial assistance is being given to 468 widows, 95 other needy persons, 48 students of lower classes and 13 students for higher studies. Medical assistance is also being provided in emergencies on need-to-need basis. During the Financial Year 2015-2016, the expenditure on different welfare activities of the GMS was about Rs. 63 Lacs.

Computerization: The work in the GMS Secretariat has been computerized. Our web site, www.mohyalonline.com can be accessed for information on the GMS.

Income Tax Exemption: It was only in 1984 that the GMS was recognized as a charitable organization under Section 12A(a), and for grant of relief to the donors under section 80G of the income Tax Act 1961. The authorization for this relief which used to be renewed every three years, has now been made permanent from 01 April 2011.

Today, the GMS has the support and blessings of the entire community. With the financial resources at its disposal, it is capable of taking up and implementing  welfare projects for the betterment and welfare of the poor and needy. GMS is confident that the emotional bond it has generated over the years will keep the community alive and vibrant for centuries to come and jointly and unitedly contribute its mite in building a strong and vibrant society in service of the Nation.

·        G.M.S Secretariat: A-9, Qutab Institutional Area, U.S.O. Road, New Delhi-110067 Tel: 011-26560456,26561504 41783232
·        M.E.R.I.T: A-9, Qutab Institutional Area, U.S.O. Road, New Delhi-110067 Tel: 011-26532492, 41610145
·        Mohyal Bhawan (Inderpuri): EG-29-30, 30 A, Inderpuri, New Delhi-110012, Tel: 011-25835123 ,9990041770
·        Mohyal Ashram, Haridwar: Bhopatwala, (Opp. Shanti Kunj), Haridwar-Rishikesh Road, Tel: 09219441137, 09219443813
·        Mohyal Ashram, Vrindavan: Plot no. 23, Ashram Vihar, Chatikara Chowk, Vrindavan-Mathura, U.P. Tel: 09917035511, 09917035522
·        Mohyal Ashram, Goverdhan: Khasra no. 1198, Moja Radhakund, Tehsil — Mathura-Vrindavan

Local Sabha Bhawans:



Ambala : 162, Prem Nagar; Chandigarh: Plot no. 30.31, Sector-24; Faridabad: NH-125, NIT-5; Gurdaspur: Holy Samadhi, Baba Thakkar, Somgalpura Road; Hoshiarpur: Bains Colony, UNA Road; Hyderabad/Secunderabad: G-1, Krishna Kaveri Niwas, Shakti Nagar, R.K. Puram; Jalandhar: Sham Mehta, Bhai Mati Dass, Ravi Dass Nagar, Model Town Link Road; Jammu: Opp. General Bus Stand; Karnal: Gandhi Chowk, Sadar Bazar; Mehrauli: Delhi; Saharanpur: Punjabi Bagh, Hakikat Nagar; Yamuna Nagar: Plot no. 69, 70-71, Sarojni Colony, Phase-1; Yamunapaar-Delhi: 800, Mohyal Bhawan, Satnam Road, Jheel-Kuranja

Thursday, February 23, 2017

महाशिवरात्रि पूजन कथा विधि महत्त्व

इस बार #सर्वार्थसिद्धियोग में #महाशिवरात्रि 24 फरवरी को है। वेद वेदांग #पँ0हिमांशुमिश्रने बताया कि #प्रदोषव्रत एवं #महाशिवरात्रि पर द्वादश पूजन का विधान है। महानिशीथ काल का पूजन सर्वोत्तम माना जाता है।इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 6:30 बजे से अगले दिन 7:37 बजे तक रहेगा। रात 9:39 बजे तक त्रयोदशी है। महानिशीथकाल में चतुर्दशी है।
#स्कंदपुराण के अनुसार इस कालखंड( समय ) में साधना करना अनेक प्रकार के भयो से मुक्त कराता है। उन्होंने बताया कि प्रदोषकाल में पुन: स्नान करके रुद्राक्ष की माला धारण करे पूर्व या उत्तर मुख करकेशिव भगवान की आराधना करें। तीनों पहर में जल, गंध, पुष्प, बेलपत्र, धतूरे के फूल, गुलाबजल, धूप, दीप, नैवेद्य आदि से पूजन करें। ऐसा करने से शासन सत्ता, राजनीति मुकदमे आदि में सफलता मिलती है। मानसिक रोगों से मुक्ति मिलती है।देवों के देव भगवान भोले नाथ के भक्तों के लिए श्री महाशिवरात्रि का व्रत विशेष महत्व रखता हैं. यह पर्व फाल्गुन कृ्ष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन मनाया जाता है.
तीनों लोकों के मालिक भगवान शिव का सबसे बड़ा त्योहार महाशिवरात्रि है। कहते हैं महाशिवरात्रि ऐसा दिन होता है जब भगवान शंकर पृथ्वी पर होते हैं उनके जितने शिवलिंग हैं
क्यों मनाते हैं शिवरात्रि 
ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान शंकर एवं मां पार्वती का विवाह सम्पन्न हुआ था और इसी दिन प्रथम शिवलिंग का प्राकट्य हुआ था.इसके अलावा ये भी मान्यता है की महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव ने कालकूट नामक विष को अपने कंठ में रख लिया था. जो समुद्र मंथन के समय बाहर आया था.
महिमा 
इस व्रत के विषय में यह मान्यता है कि इस व्रत को जो जन करता है, उसे सभी भोगों की प्राप्ति के बाद, मोक्ष की प्राप्ति होती है।.यह व्रत सभी पापों का क्षय करने वाला है, व इस व्रत को लगातार 14 वर्षो तक करने के बाद विधि-विधान के अनुसार इसका उद्धापन कर देना चाहिए.
व्रत का संकल्प 
व्रत का संकल्प सम्वत, नाम, मास, पक्ष, तिथि-नक्षत्र, अपने नाम व गोत्रादि का उच्चारण करते हुए करना चाहिए. महाशिवरात्री के व्रत का संकल्प करने के लिये हाथ में जल, चावल, पुष्प आदि सामग्री लेकर शिवलिंग पर छोड दी जाती है.
पूजन सामग्री 
उपवास की पूजन सामग्री में जिन वस्तुओं को प्रयोग किया जाता हैं, उसमें पंचामृ्त (गंगाजल, दुध, दही, घी, शहद), सुगंधित फूल, शुद्ध वस्त्र, बिल्व पत्र, धूप, दीप, नैवेध, चंदन का लेप, ऋतुफल आदि.
व्रत विधि 
महाशिवरात्री व्रत को रखने वालों को उपवास के पूरे दिन, भगवान भोले नाथ का ध्यान करना चाहिए. प्रात: स्नान करने के बाद भस्म का तिलक कर रुद्राक्ष की माला धारण की जाती है. इसके ईशान कोण दिशा की ओर मुख कर शिव का पूजन धूप, पुष्पादि व अन्य पूजन सामग्री से पूजन करना चाहिए.
इस व्रत में चारों पहर में पूजन किया जाता है. प्रत्येक पहर की पूजा में "उँ नम: शिवाय" व " शिवाय नम:" का जाप करते रहना चाहिए. अगर शिव मंदिर में यह जाप करना संभव न हों, तो घर की पूर्व दिशा में, किसी शान्त स्थान पर जाकर इस मंत्र का जाप किया जा सकता हैं. चारों पहर में किये जाने वाले इन मंत्र जापों से विशेष पुन्य प्राप्त होता है। इसके अतिरिक्त उपावस की अवधि में रुद्राभिषेक करने से भगवान शंकर अत्यन्त प्रसन्न होते है.
अभिषेक विधि 
महाशिव रात्रि के दिन शिव अभिषेक करने के लिये सबसे पहले एक मिट्टी का बर्तन लेकर उसमें पानी भरकर, पानी में बेलपत्र, आक धतूरे के पुष्प, चावल आदि डालकर शिवलिंग को अर्पित किये जाते है। व्रत के दिन शिवपुराण का पाठ सुनना चाहिए और मन में असात्विक विचारों को आने से रोकना चाहिए.शिवरात्रि के अगले दिन सवेरे जौ, तिल, खीर और बेलपत्र का हवन करके व्रत समाप्त किया जाता है.
पूजन विधि 
महाशिवरात्री के दिन शिवभक्त का जमावडा शिव मंदिरों में विशेष रुप से देखने को मिलता है। भगवान भोले नाथ अत्यधिक प्रसन्न होते है, जब उनका पूजन बेल- पत्र आदि चढाते हुए किया जाता है.व्रत करने और पूजन के साथ जब रात्रि जागरण भी किया जाये, तो यह व्रत और अधिक शुभ फल देता है. इस दिन भगवान शिव की शादी हुई थी, इसलिये रात्रि में शिव की बारात निकाली जाती है। सभी वर्गों के लोग इस व्रत को कर पुन्य प्राप्त कर सकते हैं.
.व्रत कथा 
एक बार. 'एक गाँव में एक शिकारी रहता था. पशुओं की हत्या करके वह अपने कुटुम्ब को पालता था. वह एक साहूकार का ऋणी था, लेकिन उसका ऋण समय पर न चुका सका.क्रोधवश साहूकार ने शिकारी को शिवमठ में बंदी बना लिया. संयोग से उस दिन शिवरात्रि थी. शिकारी ध्यानमग्न होकर शिव संबंधी धार्मिक बातें सुनता रहा. चतुर्दशी को उसने शिवरात्रि की कथा भी सुनी. संध्या होते ही साहूकार ने उसे अपने पास बुलाया और ऋण चुकाने के विषय में बात की. शिकारी अगले दिन सारा ऋण लौटा देने का वचन देकर बंधन से छूट गया.अपनी दिनचर्या की भाँति वह जंगल में शिकार के लिए निकला, लेकिन दिनभर बंदीगृह में रहने के कारण भूख-प्यास से व्याकुल था. शिकार करने के लिए वह एक तालाब के किनारे बेल वृक्ष पर पड़ाव बनाने लगा.बेल-वृक्ष के नीचे शिवलिंग था जो बिल्वपत्रों से ढँका हुआ था. शिकारी को उसका पता न चला.
पड़ाव बनाते समय उसने जो टहनियाँ तोड़ीं, वे संयोग से शिवलिंग पर गिरीं. इस प्रकार दिनभर भूखे-प्यासे शिकारी का व्रत भी हो गया और शिवलिंग पर बेलपत्र भी चढ़ गए.एक पहर रात्रि बीत जाने पर एक गर्भिणी मृगी तालाब पर पानी पीने पहुँची.शिकारी ने धनुष पर तीर चढ़ाकर ज्यों ही प्रत्यंचा खींची, मृगी बोली, 'मैं गर्भिणी हूँ. शीघ्र ही प्रसव करूँगी. तुम एक साथ दो जीवों की हत्या करोगे, जो ठीक नहीं है. मैं अपने बच्चे को जन्म देकर शीघ्र ही तुम्हारे सामने प्रस्तुत हो जाऊँगी, तब तुम मुझे मार लेना.' शिकारी ने प्रत्यंचा ढीली कर दी और मृगी झाड़ियों में लुप्त हो गई.
शिकार को खोकर उसका माथा ठनका. वह चिंता में पड़ गया. रात्रि का आखिरी पहर बीत रहा था. तभी एक अन्य मृगी अपने बच्चों के साथ उधर से निकली शिकारी के लिए यह स्वर्णिम अवसर था उसने धनुष पर तीर चढ़ाने में देर न लगाई, वह तीर छोड़ने ही वाला था कि मृगी बोली, 'हे पारधी! मैं इन बच्चों को पिता के हवाले करके लौट आऊँगी. इस समय मुझे मत मार.
शिकारी हँसा और बोला, 'सामने आए शिकार को छोड़ दूँ, मैं ऐसा मूर्ख नहीं. इससे पहले मैं दो बार अपना शिकार खो चुका हूँ. मेरे बच्चे भूख-प्यास से तड़प रहे होंगे.
उत्तर में मृगी ने फिर कहा, 'जैसे तुम्हें अपने बच्चों की ममता सता रही है, ठीक वैसे ही मुझे भी, इसलिए सिर्फ बच्चों के नाम पर मैं थोड़ी देर के लिए जीवनदान माँग रही हूँ. हे पारधी! मेरा विश्वास कर मैं इन्हें इनके पिता के पास छोड़कर तुरंत लौटने की प्रतिज्ञा करती हूँ.
मृगी का दीन स्वर सुनकर शिकारी को उस पर दया आ गई. उसने उस मृगी को भी जाने दिया. शिकार के आभाव में बेलवृक्ष पर बैठा शिकारी बेलपत्र तोड़-तोड़कर नीचे फेंकता जा रहा था.पौ फटने को हुई तो एक हष्ट-पुष्ट मृग उसी रास्ते पर आया.शिकारी ने सोच लिया कि इसका शिकार वह अवश्य करेगा.
शिकारी की तनी प्रत्यंचा देखकर मृग विनीत स्वर में बोला,' हे पारधी भाई! यदि तुमने मुझसे पूर्व आने वाली तीन मृगियों और छोटे-छोटे बच्चों को मार डाला है तो मुझे भी मारने में विलंब न करो, ताकि उनके वियोग में मुझे एक क्षण भी दुःख न सहना पड़े, मैं उन मृगियों का पति हूँ. यदि तुमने उन्हें जीवनदान दिया है तो मुझे भी कुछ क्षण जीवनदान देने की कृपा करो. मैं उनसे मिलकर तुम्हारे सामने उपस्थित हो जाऊँगा.मृग की बात सुनते ही शिकारी के सामने पूरी रात का घटना-चक्र घूम गया. उसने सारी कथा मृग को सुना दी.तब मृग ने कहा, 'मेरी तीनों पत्नियाँ जिस प्रकार प्रतिज्ञाबद्ध होकर गई हैं, मेरी मृत्यु से अपने धर्म का पालन नहीं कर पाएँगी. अतः जैसे तुमने उन्हें विश्वासपात्र मानकर छोड़ा है, वैसे ही मुझे भी जाने दो. मैं उन सबके साथ तुम्हारे सामने शीघ्र ही उपस्थित होता हूँ.
उपवास, रात्रि जागरण और शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाने से शिकारी का हिंसक हृदय निर्मल हो गया था. उसमें भगवद् शक्ति का वास हो गया था.धनुष और बाण उसके हाथ से सहज ही छूट गए. भगवान शिव की अनुकम्पा से उसका हिंसक हृदय कारुणिक भावों से भर गया. वह अपने अतीत के कर्मों को याद करके पश्चाताप की ज्वाला में जलने लगा.थोड़ी ही देर बाद मृग सपरिवार शिकारी के समक्ष उपस्थित हो गया, ताकि वह उनका शिकार कर सके, किंतु जंगली पशुओं की ऐसी सत्यता, सात्विकता एवं सामूहिक प्रेमभावना देखकर शिकारी को बड़ी ग्लानि हुई. उसके नेत्रों से आँसुओं की झड़ी लग गई.उस मृग परिवार को न मारकर शिकारी ने अपने कठोर हृदय को जीव हिंसा से हटा सदा के लिए कोमल एवं दयालु बना लिया.
देव लोक से समस्त देव समाज भी इस घटना को देख रहा था. घटना की परिणति होते ही देवी-देवताओं ने पुष्प वर्षा की. तब शिकारी तथा मृग परिवार मोक्ष को प्राप्त हुए ।।

Monday, February 13, 2017

Mohyals : Know about Gotra

A Gotra is the lineage or clan assigned to a Hindu at birth. In most cases, the system is patrilineal and the gotra assigned is that of the person's father. Other names used to refer to it are Vansh, Vanshaj, Bedagu, Purvik, Purvajan, Pitru. An individual may decide to identify his lineage by a different gotra, or combination of gotras. For example Lord Rama was Surya Vansha, also known as Raghu Vansha. This was because Lord Rama's great-grandfather Raghu became famous. 

The term gotra, itself, according to strict Hindu tradition is used only for the lineages of Brahmin, Kshatriya and Vysya families. A Gotra relates directly to the original seven or eight Rishis of the Vedas. In this sense, Lord Rama did not have a Gotra, and in rituals his Gotra would be the Gotra of his Brahmin priest. This practice is still common today as it was in ancient times according to earliest Hindu sources. Therefore, Gotra has always been only a Brahmin lineage that descends from seven or eight rishis associated with the Saptarishi or the seven stars of the Great Bear constellation as according to original Hindu Vedic system. The word "Gotra" means "ray." In Brahmin tradition, it is the duty of the Brahmin to keep his particular ray alive by doing daily rituals that he may transmit the power of that ray to others for the benefit of mankind. When the "ray" is extinguished, so is that particular beneficial magical stream dead to the human race and that power lost to mankind forever. Hence the importance of a Brahmin's daily Sandhya. The term "gotra" has taken broader meanings to include any lineage, Brahmin or otherwise. Therefore, today, other terms are considered synonymous with gotra and the distinct meaning of the word and the esoteric connotations are lost to many, even within the Brahmin community. 

A common mistake is to consider gotra to be synonymous with cult or Kula. A kula is basically a set of people following similar rituals, often worshipping the same God (the Kula-Devata - the God of the cult). Kula has nothing to do with lineage or caste. In fact, it is possible to change one's Kula, based on his faith or ista devatha. 

It is common practice in Hindu marriage to enquire about the Kula-Gotra meaning Cult-Clan of the bride and bridegroom before approving the marriage. In almost all Hindu families, marriages within the same gotra are prohibited. But marriage within the kula is allowed and even preferred. 

The concept of Gotra was the first attempt among Brahmins to classify themselves among different groups. At the beginning, these gentes identified themselves by the names of eight rishis (Agastya, Atri, Gautam, Jamadagni, Kashyapa, Vasishtha, Vishwamitra and Bharadvaja; the first seven of these are often enumerated as Saptarishis). It is to be noted that Vishwamitra was initially a Kshatriya king, who later chose and rose to become an ascetic rishi. Hence the gotra was applied to the grouping stemming from one of these rishis as his descendants. 

भीमवाल मोहयालों के गोत्र ऋषि कौशल

.मोहयाल ब्राह्मणों की भीमवाल जाति के गोत्र ऋषि 'कौशल' हैं. वे पंजाब के सारस्वत ब्राह्मणों के भी गोत्र ऋषि हैं. ये ब्राह्मण भगवान ब्रह्मा के मानस पुत्र हिरण्याभ कौशल ऋषि के वंशज हैं. ऋषि कौशल के शिष्य याज्ञवल्क्य ऋषि थे. कौशल गोत्र के ब्राह्मण उत्तर भारत के शासक भी थे. श्रीमदभागवत पुराण में ऋषि कौशल का उल्लेख हुआ है. कहा जाता है कि ये ब्राह्मण मूलतः कश्मीर के रहने वाले थे जो पंजाब और वर्तमान हरियाणा में बस गए. ये ज्योतिष और अध्यात्म के ज्ञाता  और गुरु थे. ये ज़मींदार भी थे. 
Khatri Kaushal : Khatris also use Kaushal as their Gotra.Dhai Ghar (meaning two and a half houses)(Kakkar)'s, Malhotra's, Kapoor's, Kurichh's, Khanna (name) and Gulla, Chopra's, Kesar, Sehgal's, Kundra's and Dhussa'ss, BHASIN have the gotra Kaushal.

Vaishya Kaushal : This community inhabits Uttar Pradesh, Bihar, Delhi, M.P., Gujarat – and some parts of Nepal. Awadh Baniyan, also known as Kaushal, is a sub-cast of Vaisya. The origin of this caste is from Awadh, now known as Ayodhya. Kaushal and Gupta are common surnames in this community. The main profession of this community includes agriculture and business.

Rajput Kaushal : Kaushal is a name for Raghuvanshi clan of Suryavanshi lineage. They are considered as the descendent's of Lord Rama. Lord Rama was sometimes called as Kaushalendra Rama and hence the Kaushal lineage came into existence. Kaushal's are found very rare and belongs to higher caste and royal families of rajputs in some areas. Kaushal's were traditionally renowned for their knowledge of astrology and spiritual healing and God fearing.

Sunday, February 12, 2017

' लाख रोक लें , बालिकाएँ अवश्य जन्म लेती रहेंगी'- अशोक लव से साक्षात्कार


[मैने वरिष्ठ साहित्यकार श्री अशोक लव के कविता-संग्रह " लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान " पर कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से एम फ़िल की है। मैने इसके लिए श्री अशोक लव से उनके कविता -संग्रह और साहित्यिक जीवन के संबंध में विस्तृत बातचीत की।] प्रस्तुत हैं इस बातचीत के अंश -
~ आपको साहित्य सृजन की प्रेरणा कैसे मिली ?
* व्यक्ति को सर्वप्रथम संस्कार उसके परिवार से मिलते हैं। मेरे जीवन में मेरी पारिवारिक पृष्ठभूमि ने अहम भूमिका निभाई है। पिता जी महाभारत और रामायण की कथाएँ सुनते थे। राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत कहानियाँ सुनाते थे। उनके आदर्श थे--अमर सिंह राठौड़ , महारानी लक्ष्मी बाई, चंद्रशेखर आज़ाद, सुभाष चंद्र बोस ,भगत सिंह आदि। वे उनके जीवन के अनेक प्रसंगों को सुनते थे। इन सबके प्रभाव ने अध्ययन की रुचि जाग्रत की। मेरे नाना जी संस्कृत के प्रकांड विद्वान थे। वे वेदों और उपनिषदों के मर्मज्ञ थे। उनके साथ भी रहा था। उनके संस्कारों ने भी बहुत प्रभावित किया। समाचार-पत्रों में प्रकाशित साहित्यिक रचनाएँ पढ़ने की रुचि ने लेखन की प्रेरणा दी। इस प्रकार शनैः - शनैः साहित्य-सृजन के संसार में प्रवेश किया।
--'लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान' कविता -संग्रह प्रकाशित कराने की योजना कैसे बनी ?
मेरा पहला कविता-संग्रह ' अनुभूतियों की आहटें ' सन् 1997 में प्रकाशित हुआ था। इससे पहले की लिखी और प्रकाशन के पश्चात् लिखी गई अनेक कविताएँ एकत्र हो गई थीं। इन कविताओं को अन्तिम रूप दिया । इन्हें भाव और विषयानुसार चार खंडों में विभाजित किया-- नारी, संघर्ष, चिंतन और प्रेम। इस प्रकार पाण्डुलिपि ने अन्तिम रूप लिया। डॉ ब्रज किशोर पाठक और डॉ रूप देवगुण ने कविताओं पर लेख लिख दिए।
कविता-संग्रह प्रकशित कराने का मन तो काफ़ी पहले से था। अशोक वर्मा, आरिफ जमाल, सत्य प्रकाश भारद्वाज और कमलेश शर्मा बार-बार स्मरण कराते थे। अंततः पुस्तक प्रकाशित हो गई। एक और अच्छी बात यह हुई कि दिल्ली की मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित ने इसका लोकार्पण किया, जो महिला हैं। उन्होंने इसके नाम की बहुत प्रशंसा की।
--आपने इसका नाम ' लड़कियों ' पर क्यों रखा ?
मैंने पुस्तक के आरंभ में ' मेरी कविताएँ ' के अंतर्गत इसे स्पष्ट किया है-"आज का समाज लड़कियों के मामले में सदियों पूर्व की मानसकिता में जी रहा है। देश के विभिन्न अंचलों में लड़कियों की गर्भ में ही हत्याएँ हो रही हैं। ...लड़कियों के प्रति भेदभाव की भावना के पीछे पुरुष प्रधान रहे समाज की मानसिकता है। आर्थिक रूप से नारी पुरुष पर आर्षित रहती आई है। आज भी स्थिति बदली नहीं है। "
समय तेज़ी से परिवर्तित हो रहा है। लड़कियाँ जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। आज की लड़कियाँ आसमान छूना चाहती हैं। उनकी इस भावना को रेखांकित करने के उद्देश्य से और समाज में उनके प्रति सकारात्मक सोच जाग्रत करने के लिए इसका नामकरण ' लड़कियों' पर किया। इसका सर्वत्र स्वागत हुआ है।'सार्थक प्रयास ' संस्था की ओर से इस पर फरीदाबाद में चर्चा-गोष्ठी हुई थी। समस्त वक्ताओं ने नामकरण को आधुनिक समय के अनुसार कहा था और प्रशंसा की थी ।
संग्रह की पहली कविता का शीर्षक भी यही है। यह कविता आज की लड़कियों और नारियों के मन के भावों और संघर्षों की क्रांतिकारी कविता है।
--'लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान ' मैं आपने देशी और ग्राम्य अंचलों के शब्दों का प्रयोग किया है। क्यों ?
इसके अनेक कारण हैं। कविता की भावभूमि के कारण ऐसे शब्द स्वतः , स्वाभाविक रूप से आते चले जाते हैं। 'करतारो सुर्खियाँ बनती रहेंगी , तंबुओं मैं लेटी माँ , छूती गलियों की गंध, जिंदर ' आदि कविताओं की पृष्ठभूमि पंजाब की है। इनमें पंजाबी शब्द आए हैं 'डांगला पर बैठी शान्ति' मध्य प्रदेश के आदिवासी क्षेत्र 'झाबुआ' की लड़की से सम्बंधित है। मैं वहाँ कुछ दिन रहा था। इसमें उस अंचल के शब्द आए हैं। अन्य कविताओं मैं ऐसे अनेक शब्द आए हैं जो कविता के भावानुसार हैं । इनके प्रयोग से कविता अधिक प्रभावशाली हो जाती हैं। पाठक इनका रसास्वादन अधिक तन्मयता से करता है।
--आपके प्रिय कवि और लेखक कौन-कौन से हैं ?
तुलसी,कबीर , सूरदास , भूषण से लेकर सभी छायावादी कवि-कवयित्रियाँ , विशेषतः 'निराला', प्रयोगवादी, प्रगतिवादी और आधुनिक कवि-कवयित्रिओं और लेखकों की लंबी सूची है। ' प्रिय' शब्द के साथ व्यक्ति सीमित हो जाता है। प्रत्येक कवि की कोई न कोई रचना बहुत अच्छी लगती है और उसका प्रशंसक बना देती है। मेरे लिए वे सब प्रिय हैं जिनकी रचनाओं ने मुझे प्रभावित किया है। मेरे अनेक मित्र बहुत अच्छा लिख रहे हैं। वे भी मेरे प्रिय हैं।
--आपने अधिकांश कविताओं में सरल और सहज शब्दों का प्रयोग किया है। क्यों ?
सृजन की अपनी प्रक्रिया होती है। कवि अपने लिए और पाठकों के लिए कविता का सृजन करता है। कविता ऐसी होनी चाहिए जो सीधे हृदय तक पहुँचे। कविता का प्रवाह और संगीत झरने की कल-कल-सा हृदय को आनंदमय करता है। यदि क्लिष्ट शब्द कविता के रसास्वादन में बाधक हों तो ऐसे शब्दों के प्रयोग से बचना चाहिए। कविता को सीधे पाठक से संवाद करना चाहिए।
मैं जब विद्यार्थी था तो कविता के क्लिष्ट शब्दों के अर्थ जानने के लिए शब्दकोश का सहारा लेता था। जब कविता पढ़ते-पढ़ते शब्दकोश देखना पड़े तो कविता का रसास्वादन कैसे किया जा सकता है? मैंने जब कविता लिखना आरंभ किया , मेरे मस्तिष्क में अपने अनुभव थे। मैंने इसीलिये अपनी कविताओं में सहजता बनाए रखने के लिए सरल शब्दों का प्रयोग किया ताकि आम पाठक भी इसका रसास्वादन कर सके। मेरी कविताओं के समीक्षकों ने इन्हें सराहा है।
साठोतरी और आधुनिक कविता की एक विशेषता है कि वह कलिष्टता से बची है।
--साहित्य के क्षेत्र में आप स्वयं को कहाँ पाते हैं ?
हिन्दी साहित्य में साहित्यकारों के मूल्यांकन की स्थिति विचित्र है। साहित्यिक-राजनीति ने साहित्यकारों को अलग-अलग खेमों/वर्गों में बाँट रखा है। इसके आधार पर आलोचक साहित्यकारों का मूल्यांकन करते हैं।
दूसरी स्थिति है कि हिंदी में जीवित साहित्यकारों का उनकी रचनाधर्मिता के आधार पर मूल्यांकन करने की परम्परा कम है।
तीसरी स्थिति है कि साहित्यकारों का मूल्यांकन कौन करे ? कवि-लेखक मौलिक सृजनकर्ता होते हैं । आलोचक उनकी रचनाओं का मूल्यांकन करते हैं । आलोचकों के अपने-अपने मापदंड होते हैं। अपनी सोच होती है। अपने खेमे होते है। साहित्य और साहित्यकारों के साथ लगभग चार दशकों का संबंध है। इसी आधार पर यह कह रहा हूँ। रचनाओं के स्तरानुसार उनका उचित मूल्यांकन करने वाले निष्पक्ष आलोचक कम हैं। इसलिए साहित्यकारों का सही-सही मूल्यांकन नहीं हो पाता। हिन्दी साहित्य से संबध साहित्यकार इस स्थिति से सुपरिचित हैं।
मैं साहित्य के क्षेत्र में कहाँ हूँ , इस विषय पर आपके प्रश्न ने पहली बार सोचने का अवसर दिया है।
मैं जहाँ हूँ,जैसा हूँ संतुष्ट हूँ । लगभग चालीस वर्षों से लेखनरत हूँ और गत तीस वर्षों से तो अत्यधिक सक्रिय हूँ। उपन्यास, कहानियाँ, कविताएँ, लघुकथाएँ, साक्षात्कार, समीक्षाएं, बाल-गीत, लेख आदि लिखे हैं। कला-समीक्षक भी रहा हूँ। पत्र-पत्रिकाओं के संपादन से भी संबद्ध रहा हूँ। पाठ्य-पुस्तकें भी लिखी और संपादित की हैं।
सन्1990 में तत्कालीन उपराष्ट्रपति डॉ शंकर दयाल शर्मा ने उपराष्ट्रपति-निवास में मेरी पुस्तक ' हिन्दी के प्रतिनिधि साहित्यकारों से साक्षात्कार ' का लोकार्पण किया था। यह समारोह लगभग दो घंटे तक चला था।
सन् 1991 में मेरे लघुकथा-संग्रह ' सलाम दिल्ली' पर कैथल (हरियाणा ) की 'सहित्य सभा' और पुनसिया (बिहार) की संस्था ' समय साहित्य सम्मलेन' ने चर्चा-गोष्ठियाँ आयोजित की थीं ।
2009 में दिल्ली की मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित ने ' अपने निवास पर ' लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान' का लोकार्पण किया।
अनेक सहित्यिक गोष्ठियों का आयोजन किया है।
पचास के लगभग सामाजिक-साहित्यिक संस्थाएँ पुरस्कृत-सम्मानित कर चुकी हैं।
इन सबके विषय मैं सोचने पर लगता है, हाँ हिन्दी साहित्य में कुछ योगदान अवश्य किया है। अब मूल्यांकन करने वाले जैसा चाहें करते रहें।
~ इन दिनों क्या लिख रहे हैं ?
' लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान ' के पश्चात् जून में नई पुस्तक 'खिड़कियों पर टंगे लोग' प्रकाशित हुई है। यह लघुकथा-संकलन है। इसका संपादन किया है। इसमें मेरे अतिरिक्त छः और लघुकथाकार हैं।
अमेरिका में दो माह व्यतीत करके लौटा हूँ। वहां के अनुभवों को लेखनबद्ध कर रहा हूँ। ‘हथेलियों पर उतरा सूर्य’ संपादित कविता-संग्रह अभी-अभी फ़रवरी 2017 प्रकाशित हुआ है। अपनी कविताओं का नया कविता-संग्रह भी प्रकाशित कराने की योजना है। इस पर कार्य चल रहा है।
--आप बहुभाषी साहित्यकार हैं। आप कौन-कौन सी भाषाएँ जानते हैं?
हिन्दी,पंजाबी और इंग्लिश लिख-पढ़ और बोल लेता हूँ। बिहार में भी कुछ वर्ष रहने के कारण अंगिका और भोजपुरी का भी ज्ञान है। संस्कृत का भी ज्ञान है। हरियाणा में रहने के कारण हरियाणवी भी जानता हूँ।
--'बालिकाएँ जन्म लेती रहेंगी' कविता के द्वारा आपने नारी को ही नारी विरोधी दर्शाया गया है। क्यों ?
* हमारे समाज में पुत्र-मोह अत्यधिक है। संतान के जन्म लेते ही पूछा जाता है- 'क्या हुआ?' 'लड़का' शब्द सुनते ही चेहरे दमक उठाते हैं। लड्डू बाँटे जाते हैं। ' लडकी' सुनते ही सन्नाटा छा जाता है। चेहरों की रंगत उड़ जाती है। अधिकांशतः ऐसा ही होता है।
लड़कियों के जन्म लेने पर सबसे अधिक शोक परिवार और संबंधियों की महिलाएँ मनाती हैं। गाँव - कस्बों, नगरों-महानगरों सबमें यही स्थिति है। ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना 'मनुष्य' है। वह चाहे पुरूष है अथवा महिला। फिर भी अज्ञानतावश लोग ईश्वर की सुंदर रचना ' लड़की' के जन्म लेते ही यूँ शोक प्रकट करते हैं मानो किसी की मृत्यु हो गई हो।
पुत्र-पुत्री में भेदभाव की पृष्ठभूमि में सदियों की मानसिकता है। नारी ही नारी को अपमानित करती है। सास-ननद पुत्री को जन्म देने वाली बहुओं-भाभियों पर व्यंग्य के बाण छोड़ती हैं। अनेक माएँ तक पुत्र-पुत्री में भेदभाव करती हैं।
नारी को नारी का पक्ष लेना चाहिए। इसके विपरीत वही एक-दूसरे पर अत्याचार करती हैं। समाज में लड़कियों की भ्रूण-हत्या के पीछे यही मानसिकता है। मैं वर्षों से इस स्थिति को देख रहा हूँ। 'बालिकाएँ जन्म लेती रहेंगी' कविता में अजन्मी पुत्री अपनी हत्यारिन माँ से अपनी हत्या करने पर प्रश्न करती है। इस विषय पर खंड-काव्य लिखा जा सकता है। मैंने लंबी कविता के मध्यम से नारियों के ममत्व को जाग्रत करने का प्रयास किया है।
--इस संग्रह में आपकी कविताएँ मुक्त-छंद में लिखी गई हैं। आपको यह छंद प्रिय क्यों है?
प्रत्येक कवि विभिन्न छंदों में रचना करता है। किसी को दोहा प्रिय है तो किसी को गीत - ग़ज़ल। मैंने इस संग्रह अपनी मुक्त-छंद में लिखी कविताओं को ही संग्रहित किया है। ।मैं गीत भी लिखता हूँ और दोहे भी लिख रहा हूँ, बाल-गीत भी लिखे हैं।
मैं छंदबद्ध रचनाओं का प्रशंसक हूँ । गीत-ग़ज़ल-दोहे मुझे प्रिय हैं। मेरे अधिकांश मित्र गीतकार-गज़लकार हैं। मैं उनकी रचनाओं का प्रशंसक हूँ । कुछ मित्रों के संग्रहों की भूमिकाएँ लिखी हैं तो कुछ मित्रों के गीत-ग़ज़ल-संग्रहों के लोकार्पण पर आलेख-पाठ किया है।
कविता किसी भी छंद में लिखी गई हो , उसे कविता होना चाहिए। मुक्त-छंद की अपनी लयबद्धता होती है, गेयता होती है, प्रवाह होता है।
--आपने अनेक विधाओं में लेखन किया है। लघुकथाकार के रूप में आपकी विशिष्ट पहचान क्यों है?
लघुकथा की लोकप्रियता की पृष्ठभूमि में अनेक साहित्यकारों द्वारा समर्पित भाव से किए कार्य हैं। सातवें और विशेषतया आठवें दशक में अनेक कार्य हुए। हमने आठवें दशक में खूब कार्य किए। एक जुनून था। अनेक मंचों से लघुकथा पर चर्चा-गोष्ठियाँ आयोजित कीं। पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से चर्चाएँ-परिचर्चाएँ कीं। दिल्ली दूरदर्शन पर गोष्ठियां कराईं , इनमें भाग लिया। अन्य साहित्यकारों को आमंत्रित किया। अच्छी बहसें हुईं।
हरियाणा के सिरसा, कैथल, रेवाड़ीऔर गुडगाँव में गोष्ठियां कराईं । बिहार के पुनसिया और झारखण्ड के डाल्टनगंज तक में गोष्ठियों में सक्रिय भाग लिया। दिल्ली-गाजियाबाद में तो कई आयोजन हुए।
लघुकथा -संकलन संपादित किए,अन्य लघुकथा-संकलनों में सम्मिलित हुए। सन् 1988 में प्रकाशित 'बंद दरवाज़ों पर दस्तकें' संपादित किया जो बहुचर्चित रहा। सन् 1991 में मेरा एकल लघुकथा-संग्रह ‘सलाम दिल्ली’ प्रकाशित हुआ। 'साहित्य सभा' कैथल (हरियाणा) और 'समय साहित्य सम्मलेन ' पुनसिया (बिहार) की ओर से इस पर चर्चा-गोष्ठियाँ आयोजित की गईं।सन 2010 में ‘ खिड़कियों पर टंगे लोग’ लघुकथा –संग्रह प्रकाशित हुआ है. संभवतः लघुकथा के क्षेत्र में इस योगदान को देखते हुए साहित्यिक संसार में विशिष्ट पहचान बनी है।
--'लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान' पर साहित्यकारों और पाठकों की क्या प्रतिक्रिया हुई है ?
*इस पुस्तक का सबने स्वागत किया है। इसके नारी-खंड की जो प्रशंसा हुई है उसका मैंने अनुमान नहीं किया था। इस पर एम फिल हो रही हैं। 'वुमेन ऑन टॉप' बहुरंगी हिन्दी पत्रिका में तो इस नाम से स्तम्भ ही आरंभ कर दिया गया है। इसमें इस पुस्तक से एक कविता प्रकाशित की जाती है और विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाली युवतिओं पर लेख होता है। कवयित्री आभा खेतरपाल ने 'सृजन का सहयोग' के अंतर्गत इस पुस्तक की कविताओं को नियमित प्रकाशित किया। इन कविताओं पर पाठकों और साहित्यकारों की प्रतिक्रियाएँ पाकर लगता है इन कविताओं ने सबको प्रभावित किया है। जितनी प्रशंसा मिल रही है उससे सुखद लगना स्वाभाविक है।डॉ सुभद्रा खुराना, डॉ अंजना अनिल, अनिरुद्ध प्रसाद विमल, बलराम प्रसाद, अशोक वर्मा, आरिफ जमाल, डॉ जेन्नी शबनम, एन.एल. गोसाईं , रूप देवगुण, इंदु गुप्ता, डॉ अपर्णा चतुर्वेदी प्रीता, कमलेश शर्मा, डॉ कंचन छिब्बर,सर्वेश तिवारी, सत्य प्रकाश भारद्वाज , सुधा सिन्हा, प्रभा मेहता, डॉ नीना छिब्बर, आर के पंकज, डॉ शील कौशिक, डॉ आदर्श बाली, प्रकाश लखानी, रश्मि प्रभा, मनोहर लाल रत्नम, चंद्र बाला मेहता, गुरु चरण लाल दत्ता जोश आदि की लंबी लिखित समीक्षाएँ मिली हैं. इन्होंने इस कृति को अनुपम कहा है। आपने तो इस पर शोध किया है।अपनी रचनाओं का ऐसा स्वागत सुखद लगता है।
मेरा सौभाग्य था कि ‘लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान ‘ के माध्यम से वरिष्ठ साहित्यकार अशोक लव जी से मिलने और जानने का सुअवसर मिला.उनकी सरलत-सहजता मुझे सदा प्रेरित करती रहेगी.
--शिव नारायण 

Tuesday, February 7, 2017

Rich Homage paid to the departed soul of former CBI Director Joginder Singh

Anil Upadhyay, Jogider Singh, SS Man in a fonction 
A condolence meeting was held to pay homage to the departed soul of Mr Joginder Singh former CBI Director by prominent residents of Dwarka,New Delhi. Rich tributes were paid by Ashok lav eminet writer and poet , Debasis Bagchi,former director CBI, , Malay Chakraborty (President PAHAL), Mukesh Sinha (Managing Editor,Dwarka city), Ritu Khati, Principal Sam International of Sam International School, Inder Mohan Khanna, PK Dutta, Akhilesh Pandey, Anil Parashar, Rumna Lala, Mitali Bhatta, Soma Dhar and Varsha  Agarwal. 


Wednesday, January 25, 2017

वरिष्ठ साहित्यकार अशोक लव द्वारा मुकेश निरूला का काव्य-संग्रह लोकार्पित

बाएँ से - श्रीमती निरूला, आशीष श्रीवास्तव, एल.आर.राघव, मुकेश निरूला, अरविंद पथिक, अशोक लव, सुशीला मोहंका, एस.एस.डोगरा 
नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले के नेशनल बुक ट्रस्ट के साहित्य संवाद कार्यक्रम में वरिष्ठ साहित्यकार अशोक लव और अन्य साहित्यकारों ने मुकेश निरूला के काव्य संग्रह ' शब्दों की उड़ान' का लोकार्पण किया.

Sunday, December 21, 2014

Ashok Lav : माँ की स्मृतियाँ / अशोक लव

माँ की पुण्य-तिथि 20 दिसंबर के अवसर पर विनम्र श्रद्धांजलि !